Breaking News

CBSE CTET 2020: जुलाई में होगा पेपर, पेपर पास करने का आसान तरीका जानिये

CBSE CTET 2020
ctet july 2020
ctet exam पास करना अब बिल्‍कुल आसान

CBSE CTET 2020: अगर इंग्लिश की वजह से नहीं हो रहा पेपर पास तो अपनाए यह तरीका

CBSE CTET 2020: अगर आप शिक्षा के क्षेत्र में अपना भविष्‍य निर्माण करना चाहते हो तो आपको सीबीएसई सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिट टेस्ट सीटेट जुलाई 2020 (CBSE CTET 2020) परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा। आवेदन की प्रक्रिया जारी है। आवेदन की अंतिम तारीख 24 फरवरी 2020 है। अगर आप ने अभी तक आवेदन नहीं किया है या तो जल्‍द से जल्‍द कर दें और अगर आवेदन कर दिया है तो तैयारी में जुट जाए। जिन्‍होंने आवेदन नहीं किया है वे उम्मीदवार विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट https://ctet.nic.in/webinfo/Public/Home.aspx पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।करें CBSE CTET 2020 के को आसानी से पास कर सकते हैं।

क्‍या इंग्लिश में कम नम्‍बर आने की वजह से सीटेट पास नहीं हुआ

क्‍या इंग्लिश में कम नम्‍बर आने की वजह से सीटेट पास नहीं हुआ आप का तो खबराए नहीं। इस बार आपका सीटेट जरूर पास हो जाएगा क्‍योंकि मैंने खुद सात बार सीटेट दिया लेकिन नहीं पास हुआ लेकिन इस बार एक दिन भी बिना पढे मैंने सीटेट पास किया है । यह सच्‍चाई है सीटेट पास करना बहुत मुश्किल काम नहीं है बस जरूरत है तो केवल थोडा सा ध्‍यान देने की और अपना आवेदन करने के दौरान थोडी सी सावधानी रखने की।

सीटेट पास करने के लिए क्‍या करें

सीटेट पास करने के लिए क्‍या करें अगर आपका भी यही सवाल है तो आप सही जगह पर है। अगर आपका हाथ इग्लिश में कमजोर है जिसके कारण हर बार आपके इग्लिश में केवल आठ या दस नम्‍बर आते है जिसके कारण आपका सी टेट हर बार केवल कुछ अंकों से रह जाता है तो इस बार अपने आवेदन में आप इग्लिश की जगह संस्कृत भाषा का चुनाव करें। अपने आवेदन में आपको दो भाषाओं का चुनाव करना होता है जिसमें पहले में आप हिन्‍दी का चुनाव करते है और दूसरे में आप इग्लिश का चुनाव करते है। लेकिन यह जरूरी नहीं कि आप केवल इग्लिश का चुनाव करें आप संस्कृत का भी चुनाव कर सकते है।

संस्कृत में इग्लिश की अपेक्षा ज्‍यादा नम्‍बर आते है

संस्कृत में इग्लिश की अपेक्षा ज्‍यादा नम्‍बर आते है । हर किसी ने आठवीं तक संस्कृत जरूर पढी होगी। आपने भी देखा होगा कि आपने स्‍कूल में संस्कृत पढी नहीं होती लेकिन फिर भी काफी अच्‍छे नम्‍बर आपके आ जाते है संस्कृत में। आपको बस पेपर से कुछ दिन पहले संस्कृत पढने की प्रैक्टिस करनी होगी ताकि आप पेपर में अच्‍छे से संस्कृत पढ सकें। संस्कृत में काफी शब्‍द ऐसे होते है जो कि हिन्‍दी से मिलते जुलते है जिसके कारण थोडी सी प्रैक्टिस ये ही आपको संस्कृत अच्‍छे से समझ आ जाती है जिसके कारण आप आराम से संस्कृत में प्रश्‍नों के उत्‍तर दे सकते है।

जिसके कारण इग्लिश में जहां आपके केवल आठ से दस नम्‍बर आते थे ओर आप दो चार या पांच अंकों से सीटेट पास करने से रह जाते थे वहीं दूसरी ओर संस्कृत में आपके 15 से लेकर 20 तक नम्‍बर आराम से आ जाएगे जिसके कारण अगर आप 10 अंक से भी सीटेट पास करने से रह गए तो दूसरी ओर आपका वह सीटेट आराम से पास हो जाएगा तो अब इंतजार किस बात का इस बार संस्कृत भर कर देखिये।

संस्कृत और इंग्लिश में से आप भर सकते है कोई भी भाषा

अगर आप सोचते हो कि इग्लिश की जगह संस्कृत भरने से आपको आगे कोई परेशानी होगी तो यह आपकी गलत फहमी है। यह जरूरी नहीं कि आप केवल इंग्लिश ही भरे। संस्कृत और इंग्लिश में से आप भर सकते है कोई भी भाषा । सीटेट केवल एक सर्टिफिकेट होता है जिसके कारण आप टीजीटी की जॉब के लिए अप्‍लाई कर सकते है । वहां आपको पेपर तो पास करना ही होगा। आप कौन सी भाषा से यह पास करते है कोई मायने नहीं रखता । आपके पास केवल सीटेट सर्टिफिकेट होना चाहिए। अब आपको देखना है कि आप यह पास करना चाहते है या फिर एक बार फिर ऐसे ही कुछ अंकों से अपना सीटेट गवाना चाहते हैं।

अगर आप चाहते है सच्‍चे प्‍यार की परिभाषा जानना तो लिंक पर जरूर क्लिक करें पाकिस्‍तान की एक सच्‍ची प्रेम कहानी

About jaatpariwar

जाट परिवार समाज में होती हलचलों के बारे में जानने का एक नजरिया हैं जाट परिवार से जुडने के लिए मेल करें jaatpariwar01@gmail.com पर

Leave a Reply

%d bloggers like this: